पलवल में तीन तलाक का केस: गदपुरी थाना में मुस्लिम महिला ने सुनाई आपबीती; पति और भाभियों पर मामला दर्ज


पलवलएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

प्रतीकात्मक फोटो।

हरियाणा के पलवल में एक महिला को तीन तलाक देकर घर से निकाल दिया गया। मामला पुलिस के पास पहुंचा तो पीड़िता के पति और दो भाभियों के खिलाफ विभिन्न धाराओं में केस दर्ज किया गया। गौरतलब है कि मुस्लिम महिलाओं को तीन बार तलाक कह कर छोड़ना गैरा कानूनी है।

गदपुरी थाना प्रभारी सुरेंद्र सिंह ने बताया कि एक विवाहिता ने दी शिकायत में कहा है कि उसकी शादी सितंबर 2012 में फरीदाबाद के एक गांव में हुई थी। पीड़िता का कहना है कि नवंबर 2017 में मौखिक और लिखित तौर पर उसके पति ने तीन बार तलाक कह कर तलाक दे दिया। एक तलाकनामा वजीरे रजिस्टर्ड पोस्ट भी भेज दिया। मायके आकर मेरे पिता व भाइयों के सामने तीन बार तलाक दे दिया।

पीड़िता का आरोप है कि इस तलाक दिलाने में उसकी दो सगी भाभी शामिल है, जिनसे आरोपी के नाजायज संबंध है। पीड़िता का कहना है कि उसके चार बच्चे है, अब वह कहां जाए और क्या करे। पीड़िता अपनी बहन के घर रहने लगी। शायद उसके पति को पश्चाताप होगा, लेकिन वह अपनी आदतों से बाज नहीं आया। जिसके संबंध में आठ अगस्त 2021 को फरीदाबाद महिला थाना में आरोपी के खिलाफ दुष्कर्म सहित विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज करा दिया।

अब पीड़िता ने आपबीती व लिखित तलाकनाम इस्लामिक कोर्ट दारुलउलूम हुस्सैनिया मांडीखेड़ा जिला मेवात में बताई। उन्होंने सारे मामले का अध्यापन करने उपरांत एक प्रमाण पत्र मुझे दिया। जिसके बाद पीड़िता ने गदपुरी थाना में अपने पति के खिलाफ तीन तलाक का मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है। खबर लिखे जाने तक आरोपी पुलिस की गिरफ्त से बाहर था।

खबरें और भी हैं…



News Collected From www.bhaskar.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.