‘कैश एट डोर’ रिश्वतकांड: जस्टिस यादव समेत अन्य आरोपियों का आज से डिफेंस शुरू; चंडीगढ़ कोर्ट में सुनवाई


चंडीगढ़10 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

‘कैश एट डोर’ रिश्वतकांड में फंसी पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट की पूर्व जज, जस्टिस(रि.) निर्मल यादव और अन्य आरोपियों का आज से ‘डिफेंस एविडेंस’ शुरू हो जाएगा। हाल में ही जस्टिस यादव ने CrPC 313 के तहत आरोपी के रूप में बयान दर्ज करवाए थे। केस में अन्य आरोपी दिल्ली के बिजनेसमैन रविंदर सिंह भसीन, पंचकूला निवासी बिजनेसमैन राजीव गुप्ता व निर्मल सिंह हैं।

एक आरोपी हरियाणा के पूर्व एडिशनल एडवोकेट जनरल संजीव बंसल की मौत हो चुकी है। 14 साल पुराने केस में CBI जज जगजीत सिंह अपने ऑर्डर में कह चुके हैं कि यह मामला 10 साल से पुराने केसों की श्रेणी में आता है। ऐसे में हाईकोर्ट के आदेशों के तहत केस को इसी वर्ष दिसंबर तक डिसाइड किया जाना है।

अगले दिन पहुंचाई गई थी रिश्वत की रकम : CBI
14 साल पहले 13 अगस्त, 2008 को यह मामला सामने आया था। जब 15 लाख रुपए रिश्वत गलती से हाईकोर्ट की अन्य जज के घर पहुंच गई थी। CBI का दावा है कि रिश्वतकांड के खुलासे के बाद अगले दिन 14 अगस्त को जस्टिस यादव के घर रिश्वत के 15 लाख पहुंचाए गए थे। रिटायर्ड जज निर्मल यादव पर प्रिवेंशन ऑफ करप्शन एक्ट की धारा 11 और बाकी 4 आरोपियों पर IPC की विभिन्न धाराओं समेत आपराधिक साजिश रचने की धारा के तहत केस चल रहा है।

पंचकूला के प्लॉट केस में ‘एकतरफा फैसला’ देने का आरोप
CBI केस के मुताबिक पंजाब एंव हरियाणा हाईकोर्ट की जज रहते हुए जस्टिस (रि.) निर्मल यादव ने वर्ष 2007 के एक केस (RSA) का रविंदर सिंह भसीन के प्रभाव में आते हुए 11 मार्च, 2008 को फैसला दिया था। भसीन की निर्मल यादव और संजीव बंसल के साथ नजदीकी थी। उसकी सेक्टर-16, पंचकूला के एक प्लॉट नंबर 601 में दिलचस्पी थी। उसी प्लॉट से जुड़े केस में जस्टिस यादव ने फैसला दिया था।

संजीव बंसल ने अपने खाते से 2 करोड़ का चैक मामले में अन्य आरोपी राजीव गुप्ता के नाम जारी किया था। इसमें से 1.5 करोड़ विनोद तयाल को दिए गए थे। यह रकम संजीव बंसल और राजीव गुप्ता द्वारा हिसार में खरीदी एक प्रॉपर्टी के रूप में दिए थे। वहीं, बाकी 20 लाख रुपए मई, 2007 में दिए गए थे।

बंसल ने सीनियर काउंसिल को ‘सुपरसीड’ किया था
जून, 2007 में 15 लाख रुपए प्लॉट मालिक आनंद जैन को दिए गए थे। राजीव गुप्ता ने आनंद जैन से पंचकूला का प्लॉट 60 लाख रुपए में खरीदा था। इसके लिए संजीव बंसल ने अपने खाते से रकम निकलवाई थी। संजीव बंसल की उस प्लॉट में निजी दिलचस्पी थी। वहीं, संजीव बंसल इस केस की सुनवाई के दौरान सीनियर काउंसिल अरुण जैन के होने के बावजूद उन्हें ‘सुपरसीड’ करते हुए पेश हुए थे।

13 अगस्त, 2008 को जस्टिस निर्मलजीत कौर के घर पहुंची गई थी रिश्वत की रकम। (फाइल)

13 अगस्त, 2008 को जस्टिस निर्मलजीत कौर के घर पहुंची गई थी रिश्वत की रकम। (फाइल)

रिश्वतकांड के खुलासे के बाद भी जज ने पैसे मांगे
CBI ने यह भी दावा किया कि 13 अगस्त को जस्टिस निर्मलजीत कौर के घर गलती से 15 लाख पहुंचने के बाद जस्टिस निर्मल यादव ने फिर से 15 लाख रुपए रविंदर सिंह से मांगे थे। इसके बाद 14 अगस्त को सुबह संजीव बंसल के नजदीकी राजीव गुप्ता ने 15 लाख रुपए जस्टिस निर्मल यादव को पहुंचाए थे। जस्टिस यादव ने यह 15 लाख रुपए वर्ष 2007 के केस में सुनाए फैसले के रूप में मांगे थे। इस प्लॉट में संजीव बंसल ने हित दिखाया था।

वहीं, CBI का कहना था कि संजीव बंसल ने जस्टिस यादव के लिए एक विदेशी हवाई यात्रा के लिए टिकट का भी प्रबंध किया था। वहीं, रविंदर सिंह भसीन द्वारा जस्टिस यादव को मैट्रिक्स मोबाइल फोन कार्ड दिया था। इसे जस्टिस यादव ने अपनी यात्रा के दौरान इस्तेमाल किया था।

आरोपियों की कॉल डिटेल्स भी सौंपी थी
CBI ने जस्टिस यादव, संजीव बंसल, राजीव गुप्ता और रविंदर सिंह भसीन के बीच नजदीकी को साबित करने के लिए इनकी कॉल डिटेल्स को भी पेश किया था। यह कॉल डिटेल्स कथित रूप से रिश्वत की लेनदेन के समय की थी। वहीं, CBI चार्जशीट के मुताबिक रविंदर सिंह भसीन ने जस्टिस निर्मल यादव के साथ मिल सोलन (हिमाचल प्रदेश) में जमीन भी खरीदी थी। इस जमीन की खरीद को लेकर हिमाचल प्रदेश सरकार से जांच भी करवाई गई थी।

आरोपियों के बीच हुई बातचीत की कॉल डिटेल भी सामने आई थी।

आरोपियों के बीच हुई बातचीत की कॉल डिटेल भी सामने आई थी।

गलत जज के घर ले आया था रिश्वत
हाईकोर्ट की जज रहीं जस्टिस निर्मलजीत कौर के घर गलती से रिश्वत के 15 लाख रुपए पहुंच गए थे। CBI केस के मुताबिक, यह रकम जस्टिस निर्मल यादव के लिए थी। जस्टिस निर्मलजीत कौर के पिअन अमरीक सिंह ने 13 अगस्त 2008 को हुए इस प्रकरण की शिकायत दी थी। संजीव बंसल का मुंशी प्रकाश राम नामक व्यक्ति उनके घर प्लास्टिक बैग में यह रकम लेकर पहुंचा था।

उसने पिअन अमरीक सिंह को कहा था कि दिल्ली से कुछ पेपर्स आए हैं, जो डिलीवर करने हैं। हालांकि बैग में मोटी रकम थी। केस की गंभीरता को देखते हुए चंडीगढ़ CBI को केस की जांच सौंपी गई थी।

2011 में CBI ने दायर की थी चार्जशीट
CBI ने जांच के बाद कहा कि जस्टिस निर्मल यादव समेत अन्यों पर आपराधिक केस बनता है। जस्टिस निर्मल यादव के खिलाफ मार्च 2011 में जब CBI ने चार्जशीट दायर की थी तो वह उत्तराखंड हाईकोर्ट की जज थीं। रिश्वतकांड के बाद वर्ष 2009 में पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट से उनका ट्रांसफर हो गया था। सुप्रीम कोर्ट ने जस्टिस यादव की ट्रायल पर रोक लगाने की अर्जी को रद करते हुए ट्रायल में देरी पैदा करने के लिए उन्हें फटकार लगाई थी।

इससे पहले हाईकोर्ट ने उनकी यह मांग रद कर दी थी। जनवरी 2014 में आरोपियों के खिलाफ CBI कोर्ट ने आरोप तय किए थे। ट्रायल के दौरान संजीव बंसल की मौत हो गई थी।

खबरें और भी हैं…



News Collected From www.bhaskar.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.